तंत्र मंत्र विद्या सीखना PDF | Yantra Mantra Tantra Vidhya PDF Download (यंत्र मंत्र, तंत्र विद्या बुक)

Tantra Mantra Yantra | Tantra Vidya | तंत्र मंत्र विद्या सीखना pdf | यंत्र मंत्र, तंत्र बुक | गुप्त तंत्र विद्या | यंत्र मंत्र तंत्र बुक pdf free download | तंत्र की पुस्तकें | प्राचीन तंत्र विद्या | तांत्रिक बुक | tantra mantra book | तंत्र मंत्र विद्या इन हिंदी | तंत्र मंत्र की पुस्तकें | tantra mantra books in hindi pdf free download | tantra mantra books pdf | tantra book pdf

वर्तमान समय मे श्री १०८ आचार्य कुन्थु सागर जी महाराज ने लुप्त हुई इस मन्त्र, तंत्र विद्या को पुन जीवन्त बनाने के लिए बहुत उत्तम प्रयास कर “लघु विद्यानुवाद” नामक पुस्तक का सृजन किया है।

मेरी यही शुभकामना है कि यह पुस्तक हम भूले पानवो को अपनी भूली हुई शक्तियो का स्मरण कराकर सही मार्ग प्रशस्त करने मे पूर्ण सफल एव सक्षम सिद्ध होगी। और ग्रन्य प्रकाशन मे जो श्री शांति कुमार जी गंगवाल अदि कार्य कर्ता हैं उन सभी को हमारा आशीर्वाद है।

–उपाध्याय मुनि श्री भरत सागर

यंत्र, मंत्र, तंत्र विद्या | Yantra Mantra Tantra Vidhya Book/Pustak PDF Free Download

लेखक श्री कुन्थु सागर जी महाराज – Shri Kunthu Sagar Ji Maharaj
श्री विजयमती माताजी – Shri Vijaymati Mataji
भाषा हिन्दी
कुल पृष्ठ 734
PDF साइज़ 30.12 MB
Category ज्योतिष (Astrology)

तंत्र मंत्र विद्या सीखना PDF | Yantra Mantra Tantra Vidhya PDF Download (यंत्र मंत्र, तंत्र विद्या बुक) download from link given below

PDF : Double click to Download PDF


Download the PDF : Click Here

यंत्र मंत्र, तंत्र बुक

मानसिक शक्ति के आधार पर यदि यह मानव अपने सासारिक जीवन को सुन्दर, उत्तम बना सकता है, तो मात्र, तांत्रिक एवं यांत्रिक शक्ति के आधार पर यह स्व और पर का उपकार कर जीवन में शक्ति का संचार कर सकता है। इन सब मे महान शक्ति की दायिनी, अक्षुण्ण शाश्वत सुख की दायिनी आध्यात्मिक शक्ति है । भारतीय इतिहास की खोज करने पर ज्ञात होता है, कि भारत के श्रमण महर्षियों ने जीवन मे सभी शक्तियो को पूर्ण स्थान दिया है।

मांत्रिक, तांत्रिक, यांत्रिक शक्तियों को जहां आज का योग झूठा, मिथ्या व पाखण्ड नाम से पुकारता है, वहाँ कुन्द कुन्दादि जैसे महानु अध्यात्म योगी ने तांत्रिक शक्ति के बल पर “दिगम्बर धर्म को आदि धर्म घोषित करवाकर” श्रमण परम्परा की, श्रमण संस्कृति की रक्षा की है।

मन्त्र विद्या, तंत्र विद्या, तंत्र विद्या झूठ या मिथ्या नही हैं । मिथ्या है तो हमारा श्रद्धान है। पहले उसी मन्त्र से शीघ्र कार्य की सिद्धि देखी जाती थी, परन्तु आज तुरन्त या शीघ्रता से मन्त्र सिद्धि नही पायी जाती है, इसका दोष हम मन्त्रो को देते है, परन्तु क्या मन्त्र, तन्त्र गलत है, नही, मन्त्र भी गलत नहीं है, तन्त्र भी गलत नही है, गलत है, तो हम है और हमारा श्रद्धान है।

We hope this article helped you to Download तंत्र मंत्र विद्या सीखना PDF | Yantra Mantra Tantra Vidhya PDF Download (यंत्र मंत्र, तंत्र विद्या बुक). If the download link of this article is not working or you are feeling any other issue with it, then please report it by choosing the Contact Us link. If the तंत्र मंत्र विद्या इन हिंदी is a copyrighted material which we will not supply its PDF or any source for downloading at any cost.

यंत्र, मंत्र, तंत्र विद्या | Yantra Mantra Tantra Vidhya Book/Pustak PDF Free Download


Leave a Comment