Shiv Chalisa PDF (शिव चालीसा) in Hindi

Download PDF of Shiv Chalisa PDF (शिव चालीसा) in Hindi free by using the download link from dharm.raftaar.in is given below.

Shiv Chalisa PDF (शिव चालीसा) in Hindi Download Link 

Name Shiv Chalisa (शिव चालीसा) in Hindi
Pages 5
Size 0.27 MB
Language Hindi
PDF : Double click to Download PDF


Click Here to Download the PDF

Shiv Chalisa (शिव चालीसा) in Hindi

Reciting Shiva Chalisa along with worshiping Lord Shiva to worship him is considered to be very auspicious. Shiva Chalisa has a great importance in worshiping. Lord Shiva can be pleased with the simple words of Shiva Chalisa. The most difficult task can be done very easily with the recitation of Shiva Chalisa. There are 40 lines of Shiva Chalisa in simple words, whose glory is very high. Due to the naive nature, Lord Bhole Bhandari easily accepts from the recitation of Shiva Chalisa and gives the devotee the desired blessing. Therefore, the recitation of Shiva Chalisa has great glory.

The trinity has been conceived in Hinduism. It is believed that this trinity is the creator, operator and guardian of the world. Among the trinity, it is considered to be a destroyer. Shiva is also called Bholenath due to his naive nature. It is said that the person who worships Shiva is not afraid of even death. The easiest mantra for worshiping Lord Shiva is “Oom Namah: Shivaay”. Shiva Chalisa is also used in worshiping Shiva with this mantra. Shiva Chalisa is also mentioned in Hindu religious books.

Pay Attention

If the Free download link of the Shiv Chalisa PDF (शिव चालीसा) in Hindi is not working or you are feeling any other issue with it, then please report it by Contact Us If the Shiv Chalisa (शिव चालीसा) in Hindi is a copyrighted material which we will not supply its PDF or any source for downloading at any cost.

Alternate Links for Shiv Chalisa PDF (शिव चालीसा) in Hindi

You can also visit the official / source website to download the PDF from following links: https://pdfdrivefiles.files.wordpress.com/2020/10/shiv-chalisha-arti.pdf

FAQs on Shiv Chalisa (शिव चालीसा) in Hindi

भगवान शिव की शिव चालिसा का कितनी बार पाठ करें.

तीन बार

मन का भय यदि है तो निम्न पंक्ति पढ़ें

जय गणेश गिरीजा सुवन' मंगल मूल सुजान| कहते अयोध्या दास तुम' देउ अभय वरदान||

धन धान्य की वृद्धि के लिए इस पंक्ति का पाठ करें

धन निर्धन को देत सदा ही' जो कोई जांचे सो फल पाही||

Shri Shiv Chalisa Lyrics in Hindi (श्री शिव चालीसा)

।।दोहा।।

श्री गणेश गिरिजा सुवन, मंगल मूल सुजान।कहत अयोध्यादास तुम, देहु अभय वरदान॥

जय गिरिजा पति दीन दयाला। सदा करत सन्तन प्रतिपाला॥भाल चन्द्रमा सोहत नीके। कानन कुण्डल नागफनी के॥अंग गौर शिर गंग बहाये। मुण्डमाल तन छार लगाये॥वस्त्र खाल बाघम्बर सोहे। छवि को देख नाग मुनि मोहे॥1॥

मैना मातु की ह्वै दुलारी। बाम अंग सोहत छवि न्यारी॥कर त्रिशूल सोहत छवि भारी। करत सदा शत्रुन क्षयकारी॥नन्दि गणेश सोहै तहँ कैसे। सागर मध्य कमल हैं जैसे॥कार्तिक श्याम और गणराऊ। या छवि को कहि जात न काऊ॥2॥

देवन जबहीं जाय पुकारा। तब ही दुख प्रभु आप निवारा॥किया उपद्रव तारक भारी। देवन सब मिलि तुमहिं जुहारी॥तुरत षडानन आप पठायउ। लवनिमेष महँ मारि गिरायउ॥आप जलंधर असुर संहारा। सुयश तुम्हार विदित संसारा॥3॥

त्रिपुरासुर सन युद्ध मचाई। सबहिं कृपा कर लीन बचाई॥किया तपहिं भागीरथ भारी। पुरब प्रतिज्ञा तसु पुरारी॥दानिन महं तुम सम कोउ नाहीं। सेवक स्तुति करत सदाहीं॥वेद नाम महिमा तव गाई। अकथ अनादि भेद नहिं पाई॥4॥

प्रगट उदधि मंथन में ज्वाला। जरे सुरासुर भये विहाला॥कीन्ह दया तहँ करी सहाई। नीलकण्ठ तब नाम कहाई॥पूजन रामचंद्र जब कीन्हा। जीत के लंक विभीषण दीन्हा॥सहस कमल में हो रहे धारी। कीन्ह परीक्षा तबहिं पुरारी॥5॥

एक कमल प्रभु राखेउ जोई। कमल नयन पूजन चहं सोई॥कठिन भक्ति देखी प्रभु शंकर। भये प्रसन्न दिए इच्छित वर॥जय जय जय अनंत अविनाशी। करत कृपा सब के घटवासी॥दुष्ट सकल नित मोहि सतावै । भ्रमत रहे मोहि चैन न आवै॥6॥

त्राहि त्राहि मैं नाथ पुकारो। यहि अवसर मोहि आन उबारो॥लै त्रिशूल शत्रुन को मारो। संकट से मोहि आन उबारो॥मातु पिता भ्राता सब कोई। संकट में पूछत नहिं कोई॥स्वामी एक है आस तुम्हारी। आय हरहु अब संकट भारी॥7॥

धन निर्धन को देत सदाहीं। जो कोई जांचे वो फल पाहीं॥अस्तुति केहि विधि करौं तुम्हारी। क्षमहु नाथ अब चूक हमारी॥शंकर हो संकट के नाशन। मंगल कारण विघ्न विनाशन॥योगी यति मुनि ध्यान लगावैं। नारद शारद शीश नवावैं॥8॥

नमो नमो जय नमो शिवाय। सुर ब्रह्मादिक पार न पाय॥जो यह पाठ करे मन लाई। ता पार होत है शम्भु सहाई॥ॠनिया जो कोई हो अधिकारी। पाठ करे सो पावन हारी॥पुत्र हीन कर इच्छा कोई। निश्चय शिव प्रसाद तेहि होई॥9॥

पण्डित त्रयोदशी को लावे। ध्यान पूर्वक होम करावे ॥त्रयोदशी ब्रत करे हमेशा। तन नहीं ताके रहे कलेशा॥धूप दीप नैवेद्य चढ़ावे। शंकर सम्मुख पाठ सुनावे॥जन्म जन्म के पाप नसावे। अन्तवास शिवपुर में पावे॥10॥

कहे अयोध्या आस तुम्हारी। जानि सकल दुःख हरहु हमारी॥

॥दोहा॥

नित्त नेम कर प्रातः ही, पाठ करौं चालीसा।तुम मेरी मनोकामना, पूर्ण करो जगदीश॥मगसर छठि हेमन्त ॠतु, संवत चौसठ जान।अस्तुति चालीसा शिवहि, पूर्ण कीन कल्याण॥

Leave a Comment