कामसूत्र पुस्तक इन हिंदी PDF | Kamsutra Mantra Hindi Book PDF (All Parts)

Kamasutra book pdf | Kamasutra book in hindi pdf format | Kamasutra book summary hindi | Kamasutra book with colour photo pdf |

kamsutra mantra hindi book pdf free downloa, mantra hindib book pdf with photo,Download Kamasutra ( सम्पूर्ण कामसूत्र) in Hindi Read Online – महर्षि वात्स्यायन,  काम सुत्र पुस्तक इन हिंदी. Kamasutra is an ancient Kamashastra text of India composed by Maharishi Vatsyayana. This is the world’s first sexual code, in which the psycho-physiological principles and uses of sexual love have been explained and discussed in detail. Kautilya’s Arthashastra has the same place in the field of Artha, the same place in the field of Kama Sutra.

कामसूत्र सभी भाग 1,2,3,4,5,6,7 | Kamasutra All Parts Book Pustak Pdf Free Download

दूसरे जीव प्रकृति पर निर्भर रहकर प्राकृतिक रूप से अपना जीवन चला सकते हैं लेकिन मनुष्य ऐसानहीं कर सकता है क्योंकि वह दूसरे जीवों से बुद्धिमान होता है। वह सामाजिक प्राणी है और समाज के नियमों बंधकर चलता है और चलना पसंद करता है। समाज के नियम है कि मनुष्य गृहस्थ जीवन में प्रवेश करता है तो सामाजिक, धार्मिक नियमों में बंधा होना जरूरी समझता है और जब वह सामाजिक-धार्मिक नियमों मेंबंधा होता है तो उसे काम-विषयक ज्ञान को भी नियमबद्ध रूप से अपनाना जरूरीहो जाता है। यही कारण है कि मनुष्य किसी खास मौसम में ही संभोग का सुख नहींभोगता बल्कि हर दिन वह इस क्रिया का आनंद उठाना चाहता है। इसी ध्येय को सामने रखते हुए आचार्य वात्स्यायन के काम के सूत्रों की रचना की है।

Kamasutra Book in hindi | Kamasutra Pustak hindi pdf | Kamasutra granth writer | Vatsyayana book | कामसूत्र | Kamasutra book summary with pictures pdf |

इन सूत्रों में काम के नियम बताए गए है। इन नियमों का पालन करके मनुष्य और भी ज्यादा लंबे समय तक चलने वाला और आनंदमय बना सकता है। आचार्य वात्स्यायन ने काम के इसशास्त्र में मुख्य रूप से धर्म, अर्थ और काम को महत्व दिया है और उन्हें नमस्कार किया है भारतीय सभ्यता की आधारशिला 4 वर्ग होते हैं धर्म, अर्थ, काम और मोक्ष।

इसके अंतर्गत शरीर, बुदधि, मन और आत्मा यह 4 अंग सारी जरूरतों और इच्छाओं के चाहने वाले होते हैं। इनकी पूर्ति धर्म, अर्थ, काम और मोक्ष दवारा होती है। शरीर के विकास और पोषण के लिए अर्थ की जरूरत होती है। शरीर के पोषण के बाद उसका झुकाव संभोग की और होता है। बुद्धि के लिए धर्म ज्ञान देता है। अच्छाई और बुराई का ज्ञान देने के साथ-साथ उसे सही रास्ता देता है। सदमार्ग से आत्मा को शांति मिलती है। आत्मा की शांति से मनुष्य मोक्ष के रास्ते की ओर बढ़ने का प्रयास करता है ।यह नियम हर काल में एक ही जैसे रहे हैं और ऐसे ही रहेंगे।

त्रिपिंडी श्राद्ध पुस्तक Tripindi Shradha Book PDF in Hindi 

  • PDF Name : कामसूत्र किताब PDF
  • कुल पृष्ठ भाग 1 : 160
  • भाग 2 : 160
  • भाग 3 : 18
  • भाग 4 : 17
  • भाग 5 : 42
  • भाग 6 : 55
  • भाग 7 : 19
  • Size : 75 MB
  • Language: Hindi
  • Category : साहित्य(Literature)
कामसूत्रर महर्षि वात्स्यायन द्वारा रचित भारत का एक प्राचीन कामशास्त्र ग्रंथ है। यह विश्व की प्रथम यौन संहिता है जिसमें यौन प्रेम के मनोशारीरिक सिद्धान्तों तथा प्रयोग की विस्तृत व्याख्या एवं विवेचना की गई है। अर्थ के क्षेत्र में जो स्थान कौटिल्य के अर्थशास्त्र का है, काम के क्षेत्र में वही स्थान कामसूत्र का है। kamsutra mantra hindi book pdf free downloa, mantra hindib book pdf with photo,Download Kamasutra ( सम्पूर्ण कामसूत्र) in Hindi Read Online – महर्षि वात्स्यायन,  काम सुत्र पुस्तक इन हिंदी.

नीचे दिए गए लिंक पर क्लिक करके, आप लिखित पुस्तक सम्पूर्ण कामसूत्र किताब पीडीएफ में डाउनलोड कर सकते हैं।

यदि आप कामसूत्र पुस्तक इन हिंदी पीडीऍफ़ प्राप्त करना चाहते हैं तो नीचे दिए हुए डाउनलोड बटन पर क्लीक करें। To download Kamsutra Book PDF, click on the download button given below.

कामसूत्र सभी भाग १,२,३,४,५,६,७ | Kamasutra All Parts 1,2,3,4,5,6,7 Book/Pustak PDF Free Download

सम्पूर्ण कामसूत्र किताब पीडीएफ में डाउनलोड करे 

PDF : Double click to Download PDF


Download the PDF : Click Here

We hope this article helped you to Download काम सुत्र पुस्तक इन हिंदी. If the download link of this article is not working or you are feeling any other issue with it, then please report it by choosing the Contact Us link. If the Kamasutra book is a copyrighted material which we will not supply its PDF or any source for downloading at any cost.

Leave a Comment