Hanuman Ashtak PDF (संकटमोचन हनुमानाष्टक) in Sanskrit Download

Download of Hanuman Ashtak PDF (संकटमोचन हनुमानाष्टक) in Sanskrit Download for free from using the download link from astroindusoot.com is given below.

Hanuman Ashtak PDF (संकटमोचन हनुमानाष्टक) in Sanskrit Download Link 

Name Hanuman Ashtak PDF (संकटमोचन हनुमानाष्टक)
Pages 2
Size 0.08 MB
Language Hindi
PDF : Double click to Download PDF


Click Here to Download the PDF

Hanuman Ashtak (संकटमोचन हनुमानाष्टक) in Sanskrit Download

Hanuman ji is the God of Hinduism. Hanuman ji removes the sufferings of his devotees in the moment, so they are known as Sankatmochan. This is the mantra of Hanuman ji eight Doha. In this mantra, the powers of Hanuman have been described. Hanumanashtak begins with an incident in the childhood of Hanuman ji, in which he eats the sun as a fruit. This is followed by a description of all other incidents that were related to Hanuman ji.

संकटमोचन हनुमानाष्टक को डाउनलोड करे (Download sankatmochan hanumanashtak in PDF)

Sankat Mochan Hanuman Ashtak in Sanskrit

Sankat Mochan Hanuman Ashtak

बाल समय रवि भक्षी लियो तब,
तीनहुं लोक भयो अंधियारों I
ताहि सों त्रास भयो जग को,
यह संकट काहु सों जात न टारो I
देवन आनि करी बिनती तब,
छाड़ी दियो रवि कष्ट निवारो I
को नहीं जानत है जग में कपि,
संकटमोचन नाम तिहारो I

बालि की त्रास कपीस बसैं गिरि,
जात महाप्रभु पंथ निहारो I
चौंकि महामुनि साप दियो तब ,
चाहिए कौन बिचार बिचारो I
कैद्विज रूप लिवाय महाप्रभु,
सो तुम दास के सोक निवारो I को

अंगद के संग लेन गए सिय,
खोज कपीस यह बैन उचारो I
जीवत ना बचिहौ हम सो जु ,
बिना सुधि लाये इहाँ पगु धारो I
हेरी थके तट सिन्धु सबे तब ,
लाए सिया-सुधि प्राण उबारो I को

रावण त्रास दई सिय को सब ,
राक्षसी सों कही सोक निवारो I
ताहि समय हनुमान महाप्रभु ,
जाए महा रजनीचर मरो I
चाहत सीय असोक सों आगि सु ,
दै प्रभुमुद्रिका सोक निवारो I को

बान लाग्यो उर लछिमन के तब ,
प्राण तजे सूत रावन मारो I
लै गृह बैद्य सुषेन समेत ,
तबै गिरि द्रोण सु बीर उपारो I
आनि सजीवन हाथ दिए तब ,
लछिमन के तुम प्रान उबारो I को

रावन जुध अजान कियो तब ,
नाग कि फाँस सबै सिर डारो I
श्रीरघुनाथ समेत सबै दल ,
मोह भयो यह संकट भारो I
आनि खगेस तबै हनुमान जु ,
बंधन काटि सुत्रास निवारो I को

बंधू समेत जबै अहिरावन,
लै रघुनाथ पताल सिधारो I
देबिन्हीं पूजि भलि विधि सों बलि ,
देउ सबै मिलि मन्त्र विचारो I
जाये सहाए भयो तब ही ,
अहिरावन सैन्य समेत संहारो I को

काज किये बड़ देवन के तुम ,
बीर महाप्रभु देखि बिचारो I
कौन सो संकट मोर गरीब को ,
जो तुमसे नहिं जात है टारो I
बेगि हरो हनुमान महाप्रभु ,
जो कछु संकट होए हमारो I को

दोहा
लाल देह लाली लसे , अरु धरि लाल लंगूर I
वज्र देह दानव दलन , जय जय जय कपि सूर II

Pay Attention

If the Free download link of the Hanuman Ashtak PDF (संकटमोचन हनुमानाष्टक) in Sanskrit Download is not working or you are feeling any other issue with it, then please report it by Contact Us If the Hanuman Ashtak (संकटमोचन हनुमानाष्टक) in Sanskrit is a copyrighted material which we will not supply its PDF or any source for downloading at any cost.

Leave a Comment